स्वास्थ्य / प्राकृतिक चिकित्सा

वरदान है अष्टांग योग

B. Rao 2018-09-21 23:44:47


योग भारतीय संस्कृति का एक ऐसा हिस्सा है लेकिन विडम्बना यह है कि इसे यहां के लोग कम और विदेश के लोग ज्यादा अपनाते हैं। अक्सर लोग सोचते हैं कि योग का मतलब शरीर को टेढ़ा-मेढ़ा करने का दूसरा नाम है, तो आपको अपनी राय बदलने की जरूरत है। योग का यानी जोड़ना, मस्तिष्क और शरीर के मिलन का नाम है योग। आज हम आपको अष्टांग योग के फायदे के बारे में बता रहे हैं। 

अष्टांग योगा में शरीर के आठ अंगों से जमीन को स्पर्श करते हैं इसलिए इसे अष्टांग योगा कहते हैं। इस आसन में जमीन का स्पर्श करने वाले अंग चिन, चेस्, दोनों हाथ, दोनों घुटने और दोनों पैर हैं। इस आसन को करते वक्त इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि पेट से शरीर का स्पर्श बिलकुल ही होने पाए। अष्टांग आसन मुद्रा में टेबल मुद्रा, श्वान मुद्रा और सर्प मुद्रा के आसनों का अभ्यास किया जाता है। इस आसन को जमीन पर करने से पहले अपने घुटने के नीचे कंबल अथवा तौलिया मोडकर रख लीजिए इससे घुटने आरामदायक स्थिति में रहेंगे और आप ज्यादा देर तक योगा कर सकते हैं। अष्टांग योगा करने से पीठ और गर्दन में मौजूद तनाव दूर होता है और अष्टांग आसन को हर रोज करने से शरीर की हड्डियां मजबूत होती हैं और शरीर लचीला होता है। 

योग लगभग हर प्रकार के दर्द को दूर करने में मदद करता है। योग की श्वास और स्ट्रेचिंग तकनीक के जरिये आप शरीर में कई प्रकार के विषैले पदार्थों का सही संतुलन बनाने का काम करता है। इसमें रक्त भी शामिल है, जो आमतौर पर शरीर में जरूरी पोषक तत्त्व पहुंचाने और टॉक्सिन को हटाने का काम करता है। एक बार शरीर का सर्कुलर सिस्टम में सुधार जाए, तो शरीर दर्द का बेहतर तरीके से सामना कर पाता है। इसका अर्थ है कि आपको दर्द का अहसास कम होता है और सूजन में भी कमी आती है। शरीर में रक्त संचार के बेहतर होने का अर्थ यह भी है कि आपके शरीर की स्वत: ठीक होने की प्रक्रिया में भी तेजी आती है।

अष्टांग योग के फायदे

·         फेफडों की कार्यक्षमता बढती है।

·         पीठ और गर्दन में मौजूद तनाव कम होता है।

·         इस योग को रोजाना करने से शरीर के सभी अंग मजबूत होते हैं।

·         इसके अभ्यास से शरीर को लचीला बनाया जा सकता है।

·         मोटापा आसानी से कम किया जा सकता है।

·         पाचन क्रिया अच्छी होती है और पेट संबंधित रोग नहीं होते हैं।

·         दिमाग तेज होता है और आदमी की उम्र भी बढती है।