ज्योतिष / रत्नविज्ञान

रत्नों की शुद्धता

B. Rao 2018-09-08 23:36:49


मुख्य नौ रत्नों की शुद्धता को परखने के इन तरीके, को जब रत्न पहनना हो तो अवश्य ध्यान दें।

भांप

हीरे के ऊपर गर्मी नहीं चढ़ती, उसे गर्म-गर्म दूध में डालने के बाद भी उसके ऊपर भांप नहीं जमेगी। अगर आपके हाथ में जो हीरा है वह असली है तो उसपर मुंह पर भांप छोड़ने के बाद भी उसपर ओस नहीं जमेगी।

पुखराज

पुखराज को एक दिन दूध में रखने के बाद भी वह पीला ही रहेगा, उसका कलर जैसा था वैसा ही रहेगा। अगर आप सफेद किसी कपड़े में पुखराज रखते हैं तो उस कपड़े के ऊपर पीली छाया नजर आने लगेगी।

माणिक्य

कमल के फूल की कली पर माणिक्य रखने से वह कली तुरंत खिल उठती है। इसके अलावा माणिक्य को किसी भी कांच के बर्तन में रखेंगे तो वह बर्तन आपको लाल दिखाई देगा।

मूंगा

असली मूंगा को कांच पर रगड़ेंगे तो वह आवाज नहीं करेगा। इस पर हैड्रोक्लोरिक एसिड डालेंगे तो वह झाग छोड़ने लगेगा।

लहसूनिया

लहसूनिया को अगर आप अंधेरे कमरे में रखते हैं तो उसपर रोशनी की एक किरण दिखाई देगी। किसी भी मजबूत चीज पर अगर आप इस पत्थर को रगड़ते हैं तो वह टूटेगा नहीं।

पन्ना

अगर पन्ना असली है तो पानी के गिलास में उसे रखने के बाद गिलास में हरी किरण दिखाई देने लगेंगी। पन्ना पर कच्ची हल्दी लगाने से इस पत्थर का रंग लाल हो जाता है।

गोमेद

असली गोमेद को गौमूत्र में रखने से 24 घंटे में गौमूत्र का रंग बदल जाता है। इस रत्न के बेहेतर आपको बबल्स नजर नहीं आते।