स्वास्थ्य / डॉक्टर से मिले

बिना डॉक्टर के परामर्श के दवाइंया न ले

B. Rao 2018-09-02 00:32:34


हेलसिंकी विश्वविद्यालय के द्वारा किए गए एक शोध में पाया गया है कि जो लोग सफर के दौरान एंटीबायोटिक साथ लेकर चलते हैं, उनकी बिना डॉक्टर के परामर्श के दवाइंया लेनी की संभावना ज्यादा होती है। देखा गया है कि लोग हल्के या मध्यम दस्त जैसी समस्याओं में भी एंटीबायोटिक का इस्तेमाल करने लगते हैं। जिससे उनके स्वास्थ्य पर एंटीमाइक्रोबल प्रतिरोध जैसी समस्या का खतरा बढ़ने लगता है।

शोध कैसे किया गया...
इस शोध में 316 प्रतिभागियों पर अध्ययन किया गया। जिसमें से 53 प्रतिभागी अपने घर से ही एंटीबायोटिक दवाइयां लेकर आए थे। उनका घर से दवाइयां लाने का उद्देश्य दस्त, जी मिचलाना या उलटी जैसी समस्याओं से राहत पाने का था। इन प्रतिभागियों में से दवाइयां ले जाने वाले लोगों में इंटेस्टीनल मल्टीरेसिस्टेंट बैक्टीरिया के मामले 34 प्रतिशत ज्यादा देखे गए।

विशेषज्ञों का कहना है कि दस्त या उलटी जैसी समस्याओं में एंटीबायोटिक तभी लेनी चाहिए, जब इन समस्याओं के साथ आपको बुखार भी रहा हो। साथ ही इन समस्याओं के ज्यादा बिगड़ने की स्थिति में भी इन दवाइयों का इस्तेमाल किया जा सकता है।