धर्म / आस्था

मालाएं एवं उनकी उपयोगिता

B. Rao 2018-08-30 00:27:06


मालाएँ आमतौर से शरीर की शोभा बढ़ातेहैंपर कर्इ तरह की मालाएँ ऐसी भी होती हैजो हमारे ग्रहों को अनुकूल कर हमें परेशानियोंसे बचाती हैं तथा स्वास्थ्य की दृष्टि से भीलाभदायक होती है। साथ ही यह तंत्र मंत्रसिद्धि के लिए भी बहुत उपयोगी होती है। यहांहम विभिन्न तरह की मालाओं की उपयोगिताका संक्षिप्त विवरण दे रहें हैं।

 

स्फटिक की माला- देवी जाप के लिए स्फटिक माला सेमंत्र शीघ्र सिद्ध हो जाता है। आर्थिक स्थिति में सुधार आती है।उच्च रक्तचाप के रोगियों को  क्रोध शान्ति के लिए यहमाला अचूक है।

 

सफेद चन्दन की माला- इसका उपयोग शान्ति पुष्टि कर्मोंव श्री रामविष्णु  अन्य देवता की उपासना में होता है।इसके धारण करने से शरीर में ताजगी का संचार होता है।

 

तुलसी की माला-विष्णु प्रिय तुलसी कीमाला विष्णुरामवकृष्ण जी की उपासनाहेतु सर्वोत्तम है। शरीरव आत्मा की शुद्धि केलिए धारण करना उत्तम माना जाता है।

 

मूंगे की माला- मंगल ग्रह की शान्ति के लिए धारण करनाउपयुक्त है  हनुमान जी की साधना के लिए सर्वोत्तम है।

 

हकीक की माला- भाग्य वृद्धि  सौभाग्य प्राप्ति के लिएइसका विशेष महत्व है। इसमें भूत-प्रेत बाधा  दुर्भाग्य औरकर्इ बुराइयों को नाश करने की विशेष शाक्ति होती है।मुसीबत आने पर यह टुट जाता है।

 

स्फटिक  रुद्राक्ष माला- रुद्राक्ष  स्फटिक मालाशिवशक्ति का प्रतीक है। रुद्राक्ष निम्न रक्तचाप को वस्फटिक उच्च रक्तचाप को नियंत्रित कर समन्वय बनाएरखता है। इस माला पर शिव  शक्ति दोनों के जाप कियेजाते हैं।

 

रुद्राक्ष  सोने के दानों की माला- रुद्राक्ष के साथ सोने केदाने रुद्राक्ष की शक्ति में वृद्धि करते हैं। सोना सबसे शुद्ध धातुहै। धारक को रुद्राक्ष के गुणों के साथ-साथ शान्ति  समृद्धिकी प्राप्ति होती है।

 

मोती की माला- मोती की माला भाग्य बढ़ाती हैपुत्र प्राप्ति केलिए उत्तम है। मानसिक शान्तिकर्क राशिलग्न  पारिवारिकदु: में लाभदायक है।

इसके अलावा टाइगरलाजव्रतगारनेटफिरोजामरगज आदिकी माला अपने राशि  ग्रह के अनुसार आपको कौन सा माला ठीकरहेगा इसकी सलाह लेकर धारण कर सकते हैं।